मेरी कहानियाँ

मेरी कहानियाँ
आर्टिस्ट -सुधा भार्गव ,बिना आर्टिस्ट से पूछे इस चित्र का उपयोग अकानून है।

बुधवार, 29 मार्च 2017

हास्य-व्यंग

चुटकियाँ
एक अनाड़ी कवि धुरंधर कवि के पास गया और बोला-
मेरे भगवान
दो वरदान
मेरी  कविता छप जाए
जन जन
मेरे गुण गाएँ
बस एक बार एक बार
देख लो कविताएं मेरी ।
कवि जी ने हाथ बढ़ाया
कागजों पर चश्मा दौड़ाया
बोले-
पढ़िये ,परखिये फिर माँजिए।
अनाड़ी घर पहुंचा
पुन: कवितायें पढ़ीं परखीं  
फिर जोश में चिल्लाया
अरी मेहरी
जूना और राख ला
मेरी कविताओं को माँज-माँज
चमका दे जरा।
प्रकाशित -मार्च 2017 
http://hindi.pratilipi.com/read?id=5785897273393152&ret=/sudha-bhargav/meri-kavita

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें